क्या आप वास्तव में खुले विचारों वाले हैं या क्या आप केवल वही देखते हैं जो आपने पहले ही देखा है और केवल वही सुनते हैं जो आपने पहले ही सुन लिया है?

हम आदत को फॉलो करने वाले ऐसे प्राणी हैं जो चीजों को वैसे ही पसंद करते हैं जैसे वे थे… क्या ऐसा नहीं है?

कई बार, हम अपने विचारों और निष्कर्षों पर टिके रहते हैं, और आने वाली नई जानकारी और विचारों को अनदेखा कर देते हैं। यह आदत हमें अपनी पूरी क्षमता तक बढ़ने और जीवन में अधिक कमाने से रोकती है।

सफल लोग हमेशा खुले विचारों वाले होते हैं क्योंकि जब आप अलग-अलग राय, विचारों और निर्णयों का समान रूप से आकलन करते हैं, तभी आप सही चुनाव कर सकते हैं।

खुले विचारों वाले होने का अभ्यास करें। बंद विचारों वाले लोग, अन्य लोगों को आपसे दूर कर सकते हैं।

खुले विचारों वाले रहने के लिए एक शक्तिशाली टूल है, हमेशा इस तरह के प्रश्न पूछना:
1) आप इस बारे में क्या सोचते हैं?
2) आप क्या विकल्प सुझाते हैं?
3) क्या आपको लगता है कि मैं अपनी सोच में गलत हो सकता हूं?
4) क्या आपको लगता है कि मैं बहुत जिद्दी हूं?

आप कितने करीबी हैं इसका एक आसान परीक्षण यह है कि कितनी बार ‘लेकिन’ शब्द का प्रयोग किया जाता है। अब से, जब आप अपने आप को ‘लेकिन’ कहते हुए सुनें, तो अपने आप को रोकें और सामने वालो को सुनें।

याद रखें, जब आप हठपूर्वक अपने विचारों और निष्कर्षों पर टिके रहते हैं, तो नए जीवन को बदलने वाले विचारों और सूचनाओं को जीवन में आकस्मात करना असंभव है।

बस जिद छोड़ो और खुशियों को जीवन में आने दो।

आज ओपन माइंड डे मनाएं!

Contact Akhil